Gehu MSP 2022: [UP/MP/Raj/Haryana] MSP for Wheat Crop

गेहूँ का समर्थन मूल्य 2022 | Gehu ka MSP Rate 2022 UP MP Haryana Rajasthan Punjab | Gehu MSP Rate 2022 | गेहूँ का मंडी भाव 2022 | गेहूँ का मंडी रेट  2022 | Gehu ka mandi rate kya hai.

जैसे की हम सब जानते हैं गेहूँ की फसल की कटाई अप्रैल के महीने में शुरू हो जाती है. जिसके बाद किसान अपनी फसल का उत्पादन मंडी में तय किए गए समर्थन मूल्य पर बेच सकते हैं. जैसे की हम सब जानते हैं गेहूँ की फसल मुख्य तौर पर कुछ ही राज्यों में की जाती है – उत्तर प्रदेश, पंजाब, हरियाणा, मध्य प्रदेश, राजस्थान आदि.

देश के ज्यादातर राज्यों में १ परिल से गेहूँ और सरसों की सरकारी खरीद जल्द ही शुरू होगी. इस बार गेहूँ की खरीद में रिकॉर्ड बनने की पूरी सम्भावना है. साल 2022 में गेहूँ की फसल का न्यूनतम समर्थन मूल्य (MSP) 2015  रुपये निर्धारित किया गया है. जो की वर्ष 2021 के मुकाबले २.३% ज्यादा है. 

Gehu MSP 2022 UP MP Rajasthan Haryana Punjab

RMS (उपभोक्ता कार्य, खाद्य एवं सार्वजनिक मंत्रालय के अनुसार रबी सीजन 2021-22 में कुल 427 लाख मीट्रिक टन गेहूँ की खरीद का अनुमान लगाया है. पिछले साल की तुलना में 9% से भी अधिक है. इस बार मध्य प्रदेश राज्य ने पंजाब से अधिक कोटा लेकर पंजाब को पीछे छोड़ने का इरादा दिखाया है.

गेहूँ का सरकारी रेट 2021-22
गेहूँ का सरकारी रेट 2022

सबसे महत्वपूर्ण सूचना – सबसे [अहले राज्यों के किसानों को अपनी फसल बेचने के लिए ऑनलाइन पोर्टल पर जाकर पंजीकरण करवाना होगा. फसल बिक्री के बाद पेमेंट सीधे किसानों के खाते में ऑनलाइन भुगतान की जाएगी. वर्ष 2022 में 12 राज्यों में MSP (न्यूनतम समर्थन मूल्य) पर गेहूँ की फसल खरीदी जाएगी.

eNAM Farmer Registration

PM Kisan KYC Status 2022

12 States – Haryana, Punjab, UP Uttar Pradesh, MP Madhya Pradesh, Rajasthan, Uttarakhand, Gujarat, Bihar, HP Himachal Pradesh, Maharashtra, Delhi, Jammu & Kashmir, and others.

Crop Rabi – Wheat, Mustard
Rate Gehu MSP Rate 2022
Price MSP (Minimum Support Price)
Check गेहूँ का समर्थन मूल्य 2022
Department Ministry of Agriculture & Farmers Welfare
Check online Wheat MSP Rate 2022
Under Central Government of India
State UP, MP, Haryana, Rajasthan, Punjab, others

गेहूँ समर्थन मूल्य 2022

2022 में गेहूँ का समर्थन मूल्य क्या है?

उत्तर प्रदेश में रबी विपन्न वर्ष 2021-22 में पंजीकृत किसानों से गेहूँ की फसल की खरीद के लिए न्यूनतम समर्थन मूल्य 1975 रुपये तय किया गया है. पिछले वर्ष MSP 1925 रुपये था, अबकी बार 50 रुपये की वृद्धि की है. इस वर्ष UP state में 55 लाख मीट्रिक टन गेहूँ खरीद का टारगेट रखा है, पिछले साल मुश्किल से 36 लाख मीट्रिक टन ही ख़रीदा गया था. इसके लिए सरकार ने 6000 खरीद केंद्र बनाये गए हैं.

वर्ष 2022 में गेहूँ का न्यनतम समर्थन मूल्य राज्य सरकारों द्वारा तय किया जायेगा। अधिक जानकारी के लिए पेज से जुड़े रहें।

PM Fasal Bima Yojana Form

Ahir Regiment Registration 2022 Indian Army

दोस्तों पिछले साल के मुकाबले न्यूनतम समर्थन मूल्य में वृद्धि की गयी है. केंद्र सरकार द्वारा इस बार गेहूँ की फसल का MSP 1975 रूपए तय किया गया था. वर्ष 2022 के लिए गेहूँ की फसल का एमएसपी 2015 रुपये तय किया गया है.

Rabi Crop MSP 2022

हरियाणा – देश का लगभग 13 फिसिदी गेहूँ पैदा करने वाला राज्य हरियाणा में भी गेहूँ की MSP 2015 रुपये है. खरीद के 48 घंटे बाद ही फसल का मूल्य किसान के बैंक खाते में भेज दिया जायेगा नहीं तो सरकार किसानों को 9 फिसिदी ब्याज देगी.

मध्य प्रदेश राज्य ने भी 135 लाख मीट्रिक टन गेहूँ खरीद का लक्ष्य रखा है और लगभग 20 लाख किसानों को लाभ मिलेगा. फसल तय एमएसपी पर ही खरीदी जाएगी.

Rabi Crop MSP 2022-23 Wheat
Rabi Crop MSP 2022-23 Wheat

पंजाब राज्य भी गेहूँ की फसल का प्रमुख उत्पादक है और इस साल 130 लाख मीट्रिक टन गेहूं खरीद का टारगेट रखा है. पंजाब में भी तय न्यूनतम समर्थन मूल्य पर ही फसल खरीदी जाएगी.

राजस्थान राज्य ने भी 22 लाख मीट्रिक टन खरीद का लक्ष्य रखा है. न्यूनतम समर्थन मूल्य पर ही फसल की खरीद की जाएगी.

Rabi Genhu MSP Rate 2022

PM Kisan Yojana New Installment

दोस्तों अगर आप किसान हैं और फसल (रबी) के समर्थन रेट की जानकारी प्राप्त करना चाहते हैं तो सबसे पहले आपको आधिकारिक पोर्टल पर जाना होगा.  यहाँ पर आपको बहुत से विकल्प दिखाई देंगे.  इसके बाद आप बहुत सी जानकारी प्राप्त कर सकते हैं. Click Here to Know

गेहूँ का सरकारी रेट क्या है?

वर्ष 2022 में रबी की सभी फसल का MSP सरकार द्वारा बढाया गया है. गेहूँ का MSP 2015 रुपये प्रति क्विंटल है.

जैसा की हम सब जानते हैं wheat की फसल की खेती मुख्य रूप से 4-५ राज्यों में की जाती है. पर इसका उत्पादन 12 राज्यों में किया जाता है. इनमे से उत्तर प्रदेश, मध्य प्रदेश, हरियाणा, पंजाब, राजस्थान में की जाती है.

केंद्र सरकार द्वारा किसान वर्ग के लिए विभिन्न योजनाओं, राज्य सरकार की योजनाओं की जानकारी प्राप्त करने के लिए जुड़े रहें. योजना से सम्बंधित किसी भी प्रकार की जानकारी, या प्रश्न का हल जानने के लिए आप कमेंट बॉक्स में भी लिख सकते हैं.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *